टमाटर औंधे मुंह गिरा तो अदरक-लहसुन के बढ़े भाव, मसालों का बजट भी बिगड़ा

पिछले 15 दिनों में अदरक और लहसुन के भाव में दोगुनी वृद्धि हो गई है। 300 रुपये प्रति किलो की दर पर अदरक की बिक्री हो रही है। लहसुन भी 200 के पार पहुंच गया है। इसके साथ ही मसालों का बजट भी बिगड़ने लगा है। 
 
garlic ginger price

देश में महंगाई की मार खाने से कोई वर्ग अछूता नहीं है। चाहें सब्जी हो या मसाला आपकी रसोई में शामिल होने वाली खाद्य सामग्री की कीमतों में आए दिन उछानत्रल देखने को मिलता है। पिछले कुछ महीनों से जहां टमाटर के दाम आसमान छू रहे थे वहीं अब उसकी कीमत औंधे मुंह गिर गई है लेकिन हैरानी इस बात की है कि पिछले 15 दिनों में अदरक और लहसुन के भाव में दोगुनी वृद्धि हो गई है। 300 रुपये प्रति किलो की दर पर अदरक की बिक्री हो रही है। लहसुन भी 200 के पार पहुंच गया है। और तो और मसालों का बजट भी बिगड़ने लगा है। जीरा के ऊंचे दाम ने लोगों के कान खड़े कर दिए ​हैं। आइए जानते हैं नई कीमतें...

जीरा और दाल के बढ़ गए भाव

बता दें कि पिछले कुछ दिनों से जीरा की कीमत 600 रुपये प्रति किलोग्राम पर बरकरार है। वहीं दाल की बात करें तो अरहर दाल की कीमत दस दिनों में 10 रुपए प्रति किलोग्राम बढ़ोतरी के साथ दर्ज की गई है। लगातार बढ़ती कीमतों के बीच मध्यम व निचले तबके के लोगों का बजट गड़बड़ हो गया है।

आटा-चावल के दाम भी उछले 

आटा की कीमत जहां अप्रैल 2023 तक प्रति किलो 26 रुपये थी, वही अब बढ़कर 28 से 30 रुपये प्रति किलो तक पहुंच गई है। कई कंपनियों ने तो आटे की कीमत में 40 से 42 रुपये प्रति किलो तक बढ़ोतरी कर दी है। कुछ ऐसा ही हाल अन्य मसालों का है। हर तरह के मसाले की कीमत पिछले दो माह में बढ़ी है। इसके अलावा चावल की कीमतों में भी प्रति किलोग्राम इजाफा दर्ज किया गया है। 

अदरक-लहसुन बजट से बाहर

इसके अलावा धनिया, हल्दी, मेथी, मिर्च आदि की कीमत में काफी बढ़ोतरी हुई है। करीब दो माह से जीरा की कीमत 600 रुपये प्रति किलो पर बनी हुई है। इसी प्रकार हल्दी की कीमत में 25 रुपये, धनिया की कीमत में 20 रुपये तथा मिर्च की कीमत में 15 रुपये प्रति किलो का उछाल आया है। अदरक और लहसुन के दाम भी तेजी से बढ़े हैं। व्यापारियों का मानना है की मंडी में भी लहसुन के दाम आने वाले दिनों में 25,000 रुपए प्रति क्विंटल से 30000 रुपए प्रति क्विंटल  तक पहुंच सकते हैं।

Tags

Share this story