Muzaffarnagar: ताजपुर कला के प्रधान ने स्कूली बच्चों को बनाया मजदूर, जिला अधिकारी ने दिया कार्रवाई का आश्वासन

इस वीडियो के सोशल मीडिया पर वायरल होने के बाद शुक्रवार को ईट ढुलाई का काम करने वाले सभी पीड़ित बच्चो ने अपने अपने परिजनों के साथ जिला कलेक्ट्रेट पर पहुँचकर जिलाधिकारी से इस बाबत शिकायत कर कार्रवाई की मांग करी है.
 
Muzaffarnagar
Naagar Bhardwaj TVN

Muzaffarnagar: उत्तर प्रदेश के मुजफ्फरनगर जनपद में सोशल मीडिया पर एक वीडियो जमकर वायरल हो रहा है। जिसमें एक जूनियर हाई स्कूल और  प्राथमिक पाठशाला के छात्र ईट ढुलाई का काम करते नजर आ रहे हैं। यह वीडियो 14 सितंबर पुरकाजी ब्लॉक स्थित ताजपुर कला गांव का बताया जा रहा है । इस वीडियो के सोशल मीडिया पर वायरल होने के बाद शुक्रवार को ईट ढुलाई का काम करने वाले सभी पीड़ित बच्चो ने अपने अपने परिजनों के साथ जिला कलेक्ट्रेट पर पहुँचकर जिलाधिकारी से इस बाबत शिकायत कर कार्रवाई की मांग करी है जिस पर मुजफ्फरनगर जिला अधिकारी अरविंद मल्लप्पा बंगारी ने सभी बच्चों को इस मामले में कार्रवाई का आश्वासन देते हुए मामले की जांच शुरू करवा दी है।

ताजपुर कला गांव के प्रधान ने स्कूली बच्चों से करवाई मजदूरी 

 


दरअसल मामला पुरकाजी ब्लॉक स्थित ताजपुर कला गांव का है जहां स्थित जूनियर हाई स्कूल और प्राथमिक पाठशाला के तकरीबन 10 बच्चों द्वारा मंदिर निर्माण के लिए ईट ढुलाई का काम 14 सितंबर को कराया गया था पीडित छात्रों का आरोप है कि ग्राम प्रधान शक्ति मोहन ने अनुज नाम के अध्यापक से मंदिर निर्माण के कार्य के लिए बच्चो से काम कराने को कहा था जिसपर अध्यापक अनुज ने तकरीबन 10 बच्चो को काम करने के लिए भेज था। इस दौरान गांव के किसी व्यक्ति ने यह पूरा वाक्या अपने मोबाइल में कैद कर सोशल मीडिया पर वायरल कर दिया गया था। जिसके बाद आज सभी बच्चे अपने परिजनों के साथ नगर में स्थित जिला कलेक्टर पर पहुंचे थे जहां सभी ने जिला अधिकारी अरविंद मल्लप्पा बंगारी से मुलाकात कर इस मामले में कार्रवाई की मांग करी। जिस पर जिलाधिकारी मुजफ्फरनगर में तुरंत ज्वाइंट कमेटी बनाकर मामले की जांच शुरू कर दी है ।

पीड़ित छात्र प्रियांश ने क्या कहा? 

इस मामले में जहाँ पीड़ित छात्र प्रियांश का  आरोप है कि मैं ताजपुर कला का रहने वाला हूं एवं प्राथमिक विद्यालय तेजपुर कला में आठवीं क्लास में पढ़ता हूं, गांव का जो प्रधान है वह स्कूल में आया और उसने गुरुजी को कहा कि हमें चार-पांच बच्चे दे दो क्योंकि हमें ईट उठवानी है तो अनुज मास्टर जी ने हमें भेजा एवं हमने ईट उठवाई, ऊंट सड़क पर रखी हुई थी जिन्हें मंदिर में वह पुचवा रहे थे, हम करीब 10 बच्चे हैं।

जिलाधिकारी कानूनी कार्रवाई का दिया आश्वासन

पीडित छात्रों के अभिभावक विनोद कुमार की माने तो यह वहां पर जो मास्टर लोग हैं वह बच्चों से ईट ढूआते हैं एवं जब हम इस मामले में डीएम साहब से मिले तो उन्होंने कहा कि इस मामले की जांच करके कानूनी कार्रवाई की जाएगी, यह वीडियो ग्राम ताजपुर कल का है, यह 10 12 बच्चे थे जिनसे ईट ढूआई जा रही थी, अब यह तो प्रधानाचार्य बताएंगे या जांच के दौरान पता चलेगा की किसके द्वारा ढूआई जा रही थी, हां प्रधान का नाम आ रहा है एवं वीडियो में वह दिखाई दे रहे हैं एवं अगर प्रधान ही है तो प्रधान भी इसमें शामिल है, डीएम साहब से हमें बहुत अच्छा आश्वासन मिला है एवं उन्होंने कहा है की जांच करने के बाद हम कानूनी कार्रवाई करेंगे, हां पहले घास आदि खुदवाना व जो मिड डे खाना होता है वह बहुत घटिया तरह का दिया जाता है और वहां केवल चावल और आलू दिए जाते हैं, टीचर का नाम अनुज है।


बहराल इस मामले में जिलाधिकारी अरविंद मल्लप्पा बंगारी ने मीडिया से बात करते हुए बताया कि  कल शाम से सोशल मीडिया पर एक जो वीडियो वायरल हुआ है जिसमे यह मामला ताजपुर ब्लॉक पुरकाजी का संज्ञान में आया है तो इसमें जो वीडियो वायरल हुई है उसमें एक जॉइंट कमेटी बनाई गई है एवं इसमें दो अधिकारी, पीएसी, पुलिस प्रशासन के अधिकारी एवं मनरेगा.... भी है तो उनकी तरफ से ये जॉइंट कमेटी से जांच कराई जा रही है और जांच कराने के बाद आगे बोर्ड..... के बेसिस पर सख्त से सख्त कार्रवाई की जाएगी।

(Reported By Nagar Bhardwaj, Edited By Alok Mishra)
 

Tags

Share this story