बुखार, खांसी और जुकाम में भूलकर भी नहीं खानी चाहिए ये दाल, 3 चीजें बनाती हैं दवा को बेअसर

मौसम बदलते ही लोग बीमार पड़ने लगते हैं. इस दौरान बुखार, खांसी, जुकाम, गले में खराश, बंद नाक, नाक बहना, सिरदर्द, बदन दर्द, उल्टी, दस्त जैसी समस्याएं बहुत आम हैं।
 
बुखार, खांसी और जुकाम में भूलकर भी नहीं खानी चाहिए ये दाल, 3 चीजें बनाती हैं दवा को बेअसर
बुखार, खांसी और जुकाम में भूलकर भी नहीं खानी चाहिए ये दाल, 3 चीजें बनाती हैं दवा को बेअसर

मौसम बदलते ही लोग बीमार पड़ने लगते हैं. इस दौरान बुखार, खांसी, जुकाम, गले में खराश, बंद नाक, नाक बहना, सिरदर्द, बदन दर्द, उल्टी, दस्त जैसी समस्याएं बहुत आम हैं। सेंटर फॉर डिजीज कंट्रोल एंड प्रिवेंशन के मुताबिक, ये फ्लू के लक्षण हैं। आयुर्वेदिक विशेषज्ञ डॉ. वरलक्ष्मी ने बताया कि फ्लू में तीन चीजें खाना सेहतमंद माना जाता है, लेकिन आयुर्वेद इन्हें खाने से मना करता है। फ्लू में आप क्या खाते-पीते हैं, और जल्दी ठीक होने के लिए यह बहुत ही ज्यादा मायने रखता है।

फ्लू में क्या खाएं और क्या नहीं?
उड़द की इडली
इडली एक प्रसिद्ध व्यंजन है, जो किण्वन द्वारा बनाई जाती है। यह उड़द की दाल से बनता है, जिसे पचाना मुश्किल होता है। किण्वन द्वारा बनाए गए खाद्य पदार्थ हमारी पाचन अग्नि और प्रतिरक्षा के लिए अच्छे नहीं होते हैं।

सर्दी-खांसी के घरेलू उपाय
दही
कोई भी डेयरी उत्पाद शरीर के लिए भारी होता है। विशेषकर दही पचने में भारी होता है और नाड़ी को अवरुद्ध कर देता है। यह कफ और पित्त को बढ़ाता है इसलिए फ्लू में इसके सेवन से बचना चाहिए।

ठंडे फल
ठंडे और खट्टे फलों में विटामिन सी होता है। लेकिन जब आपकी अग्नि कमजोर होती है तो ऐसे फल खाने से उसे अधिक नुकसान होता है और आप बीमारी से जल्दी ठीक नहीं हो पाते।

फ्लू में क्या खाएं?
हल्का, गर्म और अच्छी तरह पका हुआ ताजा खाना खाएं, जिसमें जीरा, सौंठ जैसे मसालों का इस्तेमाल किया गया हो। भोजन में लाल चावल, मूंग की दाल, जौ और चने की दाल का प्रयोग करें। इनसे सूप, खिचड़ी और मांड बनाया जा सकता है.


 

Tags

Share this story