Pregnancy Benefits : अगर आप गर्भावस्था के दौरान इस तरह से पिएंगे आंवले का जूस, तो मिलेंगे इतने सारे फायदे 

गर्भावस्था का समय बहुत ही नाजुक होता है और इस दौरान गर्भवती महिलाओं को अपने खान-पान का बहुत ध्यान रखना पड़ता है। क्या खाएं और किससे दूर रहें, 
 
Pregnancy Benefits : अगर आप गर्भावस्था के दौरान इस तरह से पिएंगे आंवले का जूस, तो मिलेंगे इतने सारे फायदे 
Pregnancy Benefits : अगर आप गर्भावस्था के दौरान इस तरह से पिएंगे आंवले का जूस, तो मिलेंगे इतने सारे फायदे 

Pregnancy Benefits: गर्भावस्था का समय बहुत ही नाजुक होता है और इस दौरान गर्भवती महिलाओं को अपने खान-पान का बहुत ध्यान रखना पड़ता है। क्या खाएं और किससे दूर रहें, ये सभी चीजें मां और बच्चे की सेहत पर असर डालती हैं। आंवले का जूस रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने और शरीर को स्वस्थ बनाने के लिए जाना जाता है, सबके मन में यो तो चलता ही है की क्या गर्भवती महिला आंवले के जूस का पी सकती है? इस आर्टिकल में हम आपको यही बताएंगे कि गर्भवती महिलाओं को आंवले के जूस का सेवन करना चाहिए या नहीं।

कितना फायदेमंद है प्रेग्‍नेंसी में आंवला का जूस

हां, गर्भवती महिलाएं आंवले के जूस का सेवन कर सकती हैं लेकिन जूस सरकार द्वारा अनुमोदित ब्रांड का होना चाहिए और जूस को ठीक से पैक और संग्रहित किया जाना चाहिए।आंवला विटामिन सी से भरपूर होता है और इसमें पोटेशियम और आहार फाइबर जैसे पोषक तत्व भी होते हैं। कई महिलाओं को गर्भावस्था के दौरान आंवला या इसके रस का सेवन करने से मतली से राहत मिलती है।

ये है आंवले का जूस पीने का सही तरीका

एनसीबीआई के एक सूत्र के अनुसार, आंवले के सेवन से कई प्रकार के संवहनी विकारों से बचा जा सकता है। आंवले में उच्च मात्रा में एंटीऑक्सीडेंट मौजूद होते हैं जो शरीर के साथ-साथ मस्तिष्क को भी स्वस्थ रखने का काम करते हैं। यह एचडीएल कोलेस्ट्रॉल में सुधार करता है और एलडीएल कोलेस्ट्रॉल को कम करता है।

घर पर बनाएं आंवले का जूस

अगर आप आंवले का जूस पीने का मन कर रहे हैं तो बेहतर होगा कि आप इसे घर पर ही बनाएं और ताजा ही पिएं। पैकेज्ड जूस में आमतौर पर संरक्षक, कृत्रिम स्वाद और उच्च मात्रा में चीनी होती है। अगर आपको विटामिन सी की पूर्ति के लिए आंवला नहीं मिल पा रहा है तो आप इसकी जगह आप कोई और जूस भी ले सकते हैं।

पैकेज्ड आंवले का जूस लेने से पहले ध्यान रखें

खरीदने से पहले यह देख लें कि जूस का पैकेट सीलबंद होना चाहिए और उसकी एक्सपायरी डेट भी देख लें। अगर आपको गर्भकालीन मधुमेह है तो आपको खाने के लेबल पर उसमें मौजूद चीनी की मात्रा अवश्य जांच लेनी चाहिए। जूस पीने से पहले इसमें थोड़ा पानी मिला लें. इससे जूस में चीनी और प्रिजर्वेटिव की मात्रा कम हो जाएगी। आपको बता दे की आधा गिलास जूस में आधा पानी भी आप मिला सकते है। यदि जूस से अच्छी गंध नहीं आ रही है या बहुत पतला लग रहा है, तो उसे तुरंत फेंक दें। गर्मी या नमी में रखने से जूस खराब हो सकता है. बेहतर होगा कि आप इसे एक्सपायर होने से पहले ही पी लें।
 

Tags

Share this story