Noida: सीवर निर्माण में घटिया सामग्री का इस्तेमाल देख भड़के जीएम, लगाया जुर्माना

Noida News: निर्माणाधीन साइट पर नोएडा प्राधिकरण के जीएम पीके कौशिक ने समीक्षा की तो घटिया स्तर की सामग्री का इस्तेमाल किया जा रहा था। जिस पर पीके कौशिक ने सख्त नाराजगी जाहिर करते हुए लाख रुपए का जुर्माना लगाया गया है।
 
noida news

नोएडा में सीवर लाइन की गुणवत्ता में समझौता होने और निम्न स्तर की निर्माण सामग्री लगाई जाने की वजह से प्राधिकरण ने निर्माण एजेंसी पर एक लाख रुपए का जुर्माना लगाया है। वहीं प्राधिकरण के संबंधित अधिकारियों को चेतावनी जारी की गई है। आपको बता दें कि नोएडा के सेक्टर 47 में तकरीबन एक किलोमीटर तक गहरी सीवर को बनाने का काम चल रहा है, जिसका कॉन्ट्रेक्ट गंगा एंड कंपनी नाम की एजेंसी को दिया गया है।मंगवार को निर्माणाधीन साइट पर नोएडा प्राधिकरण के जीएम पीके कौशिक अचानक मौके पर पहुंच गए और उन्होंने वहां पर निर्माण सामग्री और कार्य की समीक्षा की तो घटिया स्तर की सामग्री का इस्तेमाल किया जा रहा था। जिस पर पीके कौशिक ने सख्त नाराजगी जाहिर करते हुए सीवर के लिए लगाए जा रहे पाइप की गुणवत्ता निम्न श्रेणी की होने की वजह से एजेंसी पर एक लाख रुपए का जुर्माना लगाया गया है।

जीएम ने लगाया जुर्माना

निरीक्षण के दौरान सीवर के लिए डाले जा रहे पाइप को तोड़कर उसकी गुणवत्ता की जांच कराई गई। जांच में गुणवत्ता निम्न श्रेणी की पाई जाने के बाद समस्त पाइप को हटाकर दूसरा पाइप लगाने के निर्देश दिए गए। वहीं दो निर्माणाधीन मैनहोल की गुणवत्ता भी जांच के दौरान खराब पाई गई। मैनहोल की जांच में निम्न गुणवत्ता का मामला सामने आने के बाद काम रोक दिया गया है। प्राधिकरण के जीएम ने जुर्माना और चेतावनी की कार्रवाई के अलावा क्वालिटी कंट्रोल का काम कर रही थर्ड पार्टी को भी चेतावनी दी है। 

एजेंसियों का चेतावनी जारी

इस एजेंसी का कम समय-समय पर निर्माणाधीन साइट पर निरीक्षण कर काम की गुणवत्ता की निगरानी करना है लेकिन संबंधित एजेंसी ने लापरवाही बरती है। गौरतलब है कि इस सीवर लाइन का काम अप्रैल 2024 में पूरा होना है, काम की लागत 3.81 करोड़ रुपए है। प्राधिकार ने सभी एजेंसियों का चेतावनी जारी करते हुए कहा है कि उच्च गुणवत्ता के साथ काम नहीं किया गया और दूसरी बार इस तरीके की गतिविधि का पता चलने पर एजेंसी को ब्लैक लिस्ट कर दिया जाएगा।

Tags

Share this story