Asian Games 2023: भारतीय बैडमिंटन खिलाड़ियों का फोकस स्वर्ण पदक के साथ सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन पर रहेगा जोर

पुरुष एकल में एकमात्र कांस्य सैयद मोदी ने जीता था. पिछले कुछ समय में भारतीयों के प्रदर्शन को देखते हुए उनसे काफी उम्मीदें हैं. विश्व चैंपियनशिप कांस्य पदक विजेता एच एस प्रणय और राष्ट्रमंडल खेलों के स्वर्ण पदक विजेता सात्विक साइराज और चिराग पदक के दावेदारों में होंगे.
 
asian games 2023
Twitter

Asian Games 2023: पिछले कुछ समय में अप्रत्याशित सफलता हासिल करने वाले भारतीय बैडमिंटन खिलाड़ियों की निगाहें यहां एशियाई खेलों में स्वर्ण पदक के साथ अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करने पर रहेंगी. भारतीय खिलाड़ियों की बैडमिंटन की स्पर्धायें गुरुवार से शुरू होंगी. भारत ने एशियाई खेलों में अब तक बैडमिंटन में दस पदक जीते हैं , जिनमें पुरुषों की व्यक्तिगत स्पर्धा के तीन , पुरुषों की टीम स्पर्धा के तीन , महिलाओं की टीम स्पर्धा के दो और पुरुष युगल तथा मिश्रित युगल का एक एक पदक शामिल है. 

दिग्गजों से होगा सामना

भारत ने 1986 में सोल एशियाई खेलों के बाद से पुरुषों की टीम स्पर्धा में कोई पदक नहीं जीता है. थामरा कप चैंपियन भारतीय टीम के पास हालांकि इस बार सुनहरा मौका है. टीम में एच एस प्रणय, लक्ष्य सेन, सात्विक साइराज रंकीरेड्डी और चिराग शेट्टी हैं जो अच्छे फार्म में चल रहे हैं. वैसे एशियाई खेलों में चीन , कोरिया , जापान , मलेशिया और इंडोनेशिया जैसे दिग्गजों के रहते यह आसान नहीं होगा. दो बार की ओलंपिक पदक विजेता पीवी सिंधू ने जकार्ता में चार साल पहले रजत पदक जीता था.

पीवी सिंधू ने किया था अच्छा प्रदर्शन 

उनके अलावा साइना नेहवाल ने कांस्य पदक जीता. पुरुष एकल में एकमात्र कांस्य सैयद मोदी ने जीता था. पिछले कुछ समय में भारतीयों के प्रदर्शन को देखते हुए उनसे काफी उम्मीदें हैं. विश्व चैंपियनशिप कांस्य पदक विजेता एच एस प्रणय और राष्ट्रमंडल खेलों के स्वर्ण पदक विजेता सात्विक साइराज और चिराग पदक के दावेदारों में होंगे. सिंधू ने हमेशा बड़े टूर्नामेंटों में अच्छा प्रदर्शन किया है लेकिन पिछले साल एड़ी के आपरेशन के बाद उनका प्रदर्शन अच्छा नहीं रहा है. वे इस सत्र में कम से कम दस ट्नामेंटों में शरुआती दौर से ही बाहर हो गई. अप्रैल में स्पन मास्टर्स में ही सकी थीं.

हमें हराना आसान नहीं - लक्ष्य सेन

लक्ष्य सेन ने कहा कि टीम अच्छी है. इसी टीम ने थामस कप जीता था लिहाजा हम विश्व चैंपियन के रूप में जा रहे हैं. हम दुनिया की किसी भी टीम को हरा सकते हैं और हमें हराना आसान नहीं होगा. भारतीय महिला टीम में गायत्री गोपीचंद और त्रिसा जाली युगल में होंगे, जबकि सिंधू के साथ अष्मिता चालिहा, अनुपमा उपाध्याय और मालविका बसोड़ जैसे युवा खिलाड़ी हैं, जिनका सामना अन सी यंग, ताइ जू यिंग और अकाने यामागुची जैसे धुरंधरों से होगा.

यह भी पढ़ें: World Cup 2023: सात साल बाद भारत की सरजमीं पर पाकिस्तान क्रिकेट टीम ने रखा कदम

Tags

Share this story