Hartalika teej 2023: सोलह श्रृंगार के बिना अधूरा माना जाता है तीज का त्योहार, जानें पूरी लिस्ट

तीज वाले दिन विशेष तौर पर शिव-पार्वती (shiv parvati) की आराधना होती है. ऐसी मान्यता है कि तीज वाले दिन माता पार्वती ने भगवान शिव को पानी के लिए कठिन तपस्या की थी.
 
Hartalika teej 2023
Image Credit:- pexels

Hartalika teej 2023: हरतालिका तीज का त्योहार हर साल भादों के महीने में गणेश चतुर्थी (Ganesh chaturthi) से पहले मनाया जाता है. इस बार हरतालिका तीज 18 सितंबर को मनाई जाएगी. हरतालिका तीज वाले दिन विशेष तौर पर महिलाएं अपने पति की दीर्घायु हेतु व्रत का पालन करती हैं.

तीज वाले दिन विशेष तौर पर शिव-पार्वती (shiv parvati) की आराधना होती है. ऐसी मान्यता है कि तीज वाले दिन माता पार्वती ने भगवान शिव को पानी के लिए कठिन तपस्या की थी.

इसके बाद भगवान शिव ने उन्हें पत्नी के तौर पर स्वीकार किया था. तब से हिंदू धर्म में हरतालिका तीज वाले दिन स्त्रियां वैवाहिक सुख की कामना हेतु व्रत का पालन करती हैं.

इस दिन 16 श्रृंगार (solah shringar) करना आवश्यक माना जाता है. कहा जाता है सोलह श्रृंगार के बिना हरतालिका तीज (Hartalika teej) का व्रत संपन्न नहीं होता. ऐसे में आज हम आपको महिलाओं के सोलह  श्रृंगार के बारे में बताएंगे, चलिए जानते हैं.... 

सोलह श्रृंगार में क्या है शामिल

  •  महिलाओं का सोलह श्रृंगार सबसे पहले स्नान से आरंभ होता है. इस दौरान महिलाओं को स्नान अवश्य करना चाहिए.
  •  हरतालिका तीज वाले दिन महिलाओं को हरे और पीले रंग के वस्त्र पहनना चाहिए. इसके साथ ही नवविवाहित स्त्रियों को हरतालिका तीज वाले दिन लाल रंग के वस्त्र पहनने चाहिए.
  •  महिलाओं को वस्त्र पहनने के बाद माथे पर बिंदी अवश्य लगनी चाहिए. इसे सोलह श्रृंगार में से एक माना गया है. इससे कुंडली में गुरु मजबूत होते हैं.
  •  इसके बाद महिलाओं को मांग में सिंदूर भी जरूर लगाना चाहिए.

ये भी पढ़ें:- इस हरतालिका तीज अपने हाथों पर लगाएं पिया के नाम की मेहंदी, हर कोई करेगा तारीफ

  •  सोलह श्रृंगार के दौरान महिलाओं को आंखों में काजल भी अवश्य लगाना चाहिए, इसे मंगल दोष का निवारक भी माना जाता है.
  • सोलह श्रृंगार के दौरान महिलाओं को हाथ-पैर पर मेहंदी भी लगानी चाहिए. इसे हरतालिका तीज वाले दिन हाथों पर लगाना शुभ माना जाता है.
  •  महिलाओं को हरतालिका तीज वाले दिन हरी और लाल रंग की चूड़ियां भी पहननी चाहिए.
  •  महिलाओं को चूड़ी पहनने के बाद गले में मंगलसूत्र पहनना चाहिए. मंगलसूत्र को काले रंग के मोतियों में पिरोकर पहनने से आपके वैवाहिक जीवन को किसी की नजर नहीं लगती.
  •  महिलाओं को नाक में नथुनी भी पहननी चाहिए. नाक में चांदी का तार या लौंग पहनने से कुंडली में मौजूद बुध दोष दूर होता है.
  •  महिलाओं को 16 श्रृंगार करते समय बालों में गजरा भी लगाना चाहिए.
  •  सोलह श्रृंगार करते समय महिलाओं को मांग टीका भी जरूर पहनना चाहिए.
  • तीज वाले दिन सोलह श्रृंगार करने के दौरान महिलाओं को झुमके भी पहनना चाहिए.
  •  इसके अलावा बाजूबंद, कमरबंद, बिछिया, पायल और अंगूठी भी सोलह श्रृंगार में से एक मानी जाती है.

ये भी पढ़ें:- Teej पर महिलाएं क्यों करती हैं हरा श्रृंगार, जानें बड़ी वजह

Tags

Share this story