Janmashtami 2023: इस दिन मथुरा-वृंदावन में क्या होता है खास, जरूर जान लें

मथुरा और वृंदावन में साल भर श्री कृष्ण के भक्त पहुंचते हैं, लेकिन जन्माष्टमी के अवसर पर यहां बेहद भव्य नजारा देखने को मिलता है.
 
Janmashtami 2023
Image Credit:- wikimedia commons

Janmashtami 2023: हिंदू धर्म में जन्माष्टमी का पर्व बेहद उत्साह और उमंग के साथ मनाया जाता है. जन्माष्टमी वाले दिन विशेष तौर पर श्री कृष्ण का जन्म हुआ था. जिस वजह से हर साल भादों के महीने में श्री कृष्ण जन्माष्टमी मनाई जाती है. भगवान श्री कृष्ण (Shri krishna) की जन्मस्थली के तौर पर मथुरा और वृंदावन में जोरो शोरों से इस दिन की तैयारी की जाती है.

यही कारण है कि जन्माष्टमी (Janmashtami 2023) के अवसर पर मथुरा-वृंदावन में श्री कृष्ण के भक्तों की काफी भीड़ देखने को मिलती है. वैसे तो मथुरा और वृंदावन में साल भर श्री कृष्ण के भक्त पहुंचते हैं, लेकिन जन्माष्टमी के अवसर पर यहां बेहद भव्य नजारा देखने को मिलता है.

ऐसे में यदि इस बार आप जन्माष्टमी पर मथुरा या वृंदावन जाने की योजना बना रहे हैं, तो आज हम आपको मथुरा और वृंदावन में जन्माष्टमी के दिन क्या खास होता है?  इस बारे में बताएंगे, तो चलिए जानते हैं... 

मथुरा और वृंदावन में जन्माष्टमी पर क्या होता है खास? 

  • मथुरा (Mathura) स्थित श्री कृष्ण जन्मभूमि में जन्माष्टमी के दिन भगवान श्री कृष्ण की अनेक झांकियां सजाई जाती हैं. इस दौरान मथुरा की गुफाओं में बेहतरीन संगीत बजता है, जहां श्री कृष्ण की झांकियां हर किसी का मन मोह लेती हैं.
  • जन्माष्टमी के अवसर पर बांके बिहारी मंदिर में मंगला आरती का आयोजन होता है. इस आरती के लिए लोग दूर-दूर से वृंदावन पहुंचते हैं, क्योंकि यह आरती साल में एक ही बार आयोजित की जाती है.
  • गोकुल में जन्माष्टमी के अवसर पर नंद भवन को बेहद खूबसूरती के साथ सजाया जाता है. 
  • बरसाने में राधा रानी के मंदिर को बेहद भव्य और अलौकिक तरीके से सजाया जाता है, जिसकी छटा देखते बनती है.
  • मथुरा और वृंदावन (vrindavan) में रंगनाथ मंदिर, प्रेम मंदिर, द्वारिकाधीश मंदिर, यमुना घाट, कुसुम सरोवर, गोवर्धन पर्वत, निधि वन और इस्कॉन मंदिर (isckon temple) को भी जन्माष्टमी के अवसर पर काफी अलग तरीके से सजाया जाता है. जहां जाकर आप जन्माष्टमी के पर्व का लुफ्त उठा सकते हैं.

इस प्रकार, भगवान श्री कृष्ण से जुड़े संपूर्ण ब्रज प्रदेश को जन्माष्टमी वाले दिन बेहद खूबसूरती के साथ सजाया जाता है. संपूर्ण ब्रज प्रदेश के अंतर्गत  कुल 12 वन और कई उपवन बनाते हैं. जिनमें मथुरा, वृंदावन, गोकुल, नंदगांव, बलदेव,काम्यवन, गोवर्धन, महावन, बरसाना और डीग आदि प्रमुख हैं. इन समस्त जगहों पर जन्माष्टमी वाले दिन बेहद भव्य नजारा देखने को मिलता है.

ये भी पढ़ें:- इस जन्माष्टमी घर बैठे कीजिए भगवान श्री कृष्ण के अनोखे मंदिरों के दर्शन

Tags

Share this story